पूर्व बीएसपी अधिकारी और कार्टूनिस्ट बी वी पांडुरंगा राव की उपलब्धियों में “प्राइड ऑफ भारत 24” का एक और पुरस्कार शामिल ।

0

दिनांक : 12.06.2024 सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के पूर्व वरिष्ठ प्रबंधक तथा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कार्टूनिस्ट श्री बी वी पांडुरंगा राव का नाम भिलाईवासियों के लिए जाना-पहचाना है। 80 वर्षीय पांडुरंगा राव अब बेंगलुरू में रहते हैं और वे पांच दशकों से भी अधिक समय से शौकिया कार्टूनिस्ट हैं। अंग्रेजी, हिंदी और कन्नड़ में विभिन्न प्रकाशनों के लिए 10,000 से अधिक कार्टून बनाने, देश के विभिन्न स्थानों पर 55 एकल कार्टून प्रदर्शनियों का आयोजन करने के साथ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार जीतने वाले भी श्री पांडुरंगा राव का भिलाई से गहरा नाता है। भिलाई में ऐसे कई लोग हैं जो आज भी श्री राव को उनकी उपलब्धियों और उनके कार्टूनों के लिए बधाई देते हैं। श्री राव भी भिलाईवासियों के प्रति उतना ही स्नेह रखते हैं। वे कहते हैं कि इस क्षेत्र में मैंने जो कुछ भी हासिल किया है, वह भिलाई इस्पात संयंत्र में काम करने के दौरान कार्टून बनाने के लिए अपने सहकर्मियों और वरिष्ठों से मिले प्रोत्साहन की बदौलत है। उन्होंने कहा, कि भिलाई हमेशा उनके दिल में एक विशेष स्थान रखेगा। अपने सेवाकाल के दौरान, वे नियमित रूप से संयंत्र के इन-हाउस प्रकाशनों के लिए कार्टून बनाते थे, जिन्हें कर्मचारी बहुत पसंद करते थे। जनसंपर्क विभाग और पर्यावरण प्रबंधन विभाग सहित संयंत्र के विभिन्न विभागों में काम करने के बाद श्री राव ने 2001 में वी आर लिया।श्री पांडुरंगा राव ने राज्य स्तरीय और राष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिताओं में 40 से अधिक पुरस्कार जीते हैं। उन्हें कार्टून फेस्टिवल नई दिल्ली – 2011 में डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम द्वारा लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है। श्री राव को हाल ही में उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों और योगदान के लिए प्रतिष्ठित ‘आई कैन फाउंडेशन प्राइड ऑफ भारत 24 अवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। उन्हें एक प्रमाण पत्र, पदक और ट्रॉफी से सम्मानित किया गया है। पुरस्कार वितरण समारोह 16 मार्च 2024 को जयपुर में आयोजित किया गया था। आई कैन फाउंडेशन एक प्रमुख स्वैच्छिक संगठन है, जो ऐसे व्यक्तियों की उपलब्धियों को मान्यता देता है, जिन्होंने अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और वे अपनी प्रतिभा से दूसरों को भी प्रेरित करते हैं। श्री राव को आई कैन फाउंडेशन ह्यूमैनिटेरियन नेशनल एक्सीलेंस अवार्ड 2020 भी मिला है।श्री राव ने 1994 से अब तक 350 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिताओं में भाग लिया है। उनके कार्टून 40 देशों में 150 से अधिक बार अंतर्राष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिताओं में पुरस्कृत किये गए और प्रदर्शनियों एवं संग्रहालयों में प्रदर्शित किए गए हैं। चीन में उनके द्वारा जीते गए कुछ पुरस्कारों में कैरिकेचर के लिए कांस्य पुरस्कार – सर्वश्रेष्ठ रचनात्मक कार्टून पुरस्कार, जिसमें 500 अमरीकी डॉलर का नकद पुरस्कार था, बीजिंग में कैरिकेचर उत्सव में प्रथम पोर्ट्रेट में 2000 आरएमबी (रेनमिनबी-चीन की ऑफिशियल करेंसी) का विशेष पुरस्कार, 9वीं जियाक्सिंग अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ कार्टून पुरस्कार, चीन में – 1800 आरएमबी, खेल हास्य पर चित्रों की पहली अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी में उत्कृष्टता पुरस्कार – 2000 आरएमबी शामिल है। श्री राव के कार्टून अब तीसरी हास्य प्रदर्शनी, चीन – 2024 के लिए चुने गए हैं।अन्य अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों और सम्मानों में, 2015 में ब्राजील के पिरासिकाबा में 5000 ब्राजील डॉलर का प्रतिष्ठित यूनीमेड हेल्थ कैश पुरस्कार, इज़राइल से विशेष पुरस्कार, रे बर्न्स स्कूल ऑफ कार्टूनिंग, यूएसए से कार्टूनिंग में डिप्लोमा, रोमानिया से डिप्लोमा और उत्कृष्टता पुरस्कार, कई अन्य देशों से डिप्लोमा आदि शामिल है। श्री राव ने कोरिया में SICACO वार्षिक अंतर्राष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिता में 27 वर्षों में 23 पुरस्कार जीते हैं। उनके कार्टून विभिन्न देशों में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिताओं के 75 कार्टून कैटलॉग में प्रकाशित हुए हैं।श्री राव ने कई राष्ट्रीय पुरस्कार और कई विश्व रिकॉर्ड बनाये हैं। उन्हें मुंबई में लाडली नेशनल एक्सीलेंस सिल्वर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। उनके नाम 14 लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स, 14 इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स, 6 यूनिक वर्ल्ड रिकॉर्ड्स, एलीट वर्ल्ड रिकॉर्ड, वर्ल्ड अमेजिंग रिकॉर्ड, वर्ल्ड रिकॉर्ड इंडिया, एशिया ग्रैंड मास्टर अवार्ड, AIAA जीनियस कार्टूनिस्ट 2023 अवार्ड, RS वर्ल्ड रिकॉर्ड, URF एशिया रिकॉर्ड 2019, 2018 और 2019 में URF टॉप टैलेंट ऑफ़ द ईयर अवार्ड और 2020 में URF लीजेंड अवार्ड में उल्लेखित हैं।कार्टून के प्रति अपने जुनून के अलावा, श्री राव एक खिलाड़ी भी रहे हैं। उन्होंने क्रिकेट में भिलाई इस्पात संयंत्र का प्रतिनिधित्व किया है। वे 20 वर्षों तक एमपी स्टेट पैनल क्रिकेट अंपायर रहे हैं। शटल बैडमिंटन खिलाड़ी के रूप में, उन्होंने बीएसपी और एमपी डिवीजन के लिए तथा राज्य और राष्ट्रीय स्तर के टूर्नामेंट में मास्टर्स टूर्नामेंट खेला है।

सामाचार के लिऐ संपर्क करें

रिपोर्टर : मधुमिता नियाल

9131574576👈

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *